भारत

10वीं के छात्र ने लगाई फांसी,’ब्लू व्हेल गेम’ के चलते पंचकुला में

10वीं के छात्र ने लगाई फांसी,’ब्लू व्हेल गेम’ के चलते पंचकुला में

नई दिल्ली: ब्लू व्हेल गेम का खूनी खेल थमने का नाम नहीं ले रहा है. चंडीगढ़ के पास पंचकुला में 17 वर्षीय किशोर ने अपने घर में छत से लटक कर आत्महत्या कर ली. आत्महत्या करने का कारण घातक ‘ब्लू व्हेल’ गेम को माना जा रहा है. चंडीगढ़ के एक निजी स्कूल में 10वीं कक्षा के छात्र का शव पंचकुला स्थित उसके घर में फांसी के फंदे से लटकता पाया गया. पंचकुला के पुलिस उपायुक्त मनबीर सिंह ने कहा कि लड़के के माता-पिता ने बताया है कि उन्हें उसकी डायरी में कुछ नोट्स और रेखाचित्र मिले हैं, जो इस बात का संकेत कर रहे हैं कि लड़के ने ब्लू व्हेल गेम की चुनौती को पूरा करने के लिए यह घातक कदम उठाया. उन्होंने कहा कि मामले की जांच की जा रही है.

‘ब्लू व्हेल’ गेम दुनियाभर में कई बच्चों की मौत का कारण बन चुका है. इस गेम के खेलने के लिए बच्चों को कुछ काम दिए जाते हैं, जिसमें इमारत से कूदना या आत्महत्या करना भी शामिल है. इस गेम के खेलने के चलते दुनिया भर में 150 से ज्यादा बच्चों की जान जा चुकी है.

क्या है ऑनलाइन ‘ब्लू व्हेल’ गेम?
ऑनलाइन खूनी ‘ब्लू व्हेल’ गेम की शुरुआत रूस से हुई है. इसमें प्रतिभागियों से सोशल मीडिया के जरिए कागज पर ब्लू व्हेल बनाने और फिर व्हेल शरीर पर बनाने के लिए कहा जाता है. इसके बाद प्रतिभागियों से अकेले डरावनी फिल्में देखने जैसे काम दिए जाते हैं. मोबाइल फोन और लैपटॉप के जरिए खेले जाने वाले इस खेल में 50 दिन अलग-अलग टास्क मिलते हैं. रोज टास्क पूरा होने के बाद अपने हाथ को काटकर निशान बनाना पड़ता है. जो 50 दिन में पूरा होकर व्हेल का आकार बन जाता है इसके बाद फाइनल टास्क पूरा करने वाले को खुदकुशी करने के लिए कहा जाता है.

About the author

Related Posts

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.