भारत

PM नरेंद्र मोदी ने हरियाणा हिंसा पर जताई चिंता

PM नरेंद्र मोदी ने हरियाणा हिंसा पर जताई चिंता, कहा- आस्‍था के नाम पर हिंसा बर्दाश्‍त नहीं

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में रविवार को कहा कि संप्रदाय, धर्म या व्‍यक्ति के नाम पर आस्‍था के आधार पर हिंसा की इजाजत नहीं दी जा सकती. कानून हाथ में लेने का इजाजत किसी को नहीं दी जा सकती. हर व्‍यक्ति को कानून का पालन करना होगा. पीएम नरेंद्र मोदी ने हरियाणा हिंसा पर चिंता जाहिर करते हुए यह बात कही. ऐसे में धर्म या किसी व्‍यक्ति के नाम पर हिंसा को कतई बर्दाश्‍त नहीं किया जाएगा. पीएम मोदी ने कहा कि हमारा देश अहिंसा परमो धर्म: को मानने वाला देश है. यह महात्‍मा गांधी और सरदार पटेल का देश है. बाबा साहेब को याद करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि उनके बनाए संविधान के अनुसार ही देश चल सकता है. ऐसे में कोई भी कानून से ऊपर नहीं हो सकता.

त्‍योहारों की बधाई
पीएम नरेंद्र मोदी ने गणपति उत्‍सव और केरल में आने वाले ओणम उत्‍सव की देशवासियों को बधाई दी. हालांकि ये भी कहा कि त्‍योहारों के इस मौसम में हिंसा के हालात चिंता की बात हैं. इसके साथ ही जोड़ा कि त्‍योहारों के लिहाज से पर्यावरण पर ध्‍यान देना जरूरी है. उसी संदर्भ में कहा कि लोग ईको-फ्रेंडली गणपति उत्‍सव मना रहे हैं. ऐसे में स्‍वच्‍छता अभियान को इन त्‍योहारों को जोड़ना चाहिए. उन्‍होंने गणपति उत्‍सव को पर्यावरण और स्‍वच्‍छता अभियान से जोड़े जाने के प्रयासों की सराहना की.

बाढ़ की बात
पीएम मोदी ने कहा कि गुजरात और बिहार में बाढ़ और उसके बाद उपजे हालात चिंता की बात है. हालांकि इसके बाद सफाई का अभियान चलाया जा रहा है. उन्‍होंने गुजरात में जमायत-उलेमा-ए-हिंद के कार्यकर्ताओं की तारीफ करते हुए कहा कि इन लोगों ने बाढ़ की विभीषिका से निपटने में उत्‍तम काम किया है.

स्‍वच्‍छता ही सेवा
दो अक्‍टूबर के लिहाज से पीएम मोदी ने कहा कि स्‍वच्‍छता ही सेवा है. हमको स्‍वच्‍छता अभियान को एक आंदोलन के रूप में लेना चाहिए और स्‍वच्‍छता ही सेवा के मंत्र के साथ इस मुद्दे पर ध्‍यान केंद्रित करना चाहिए. ऐसे में स्‍वच्‍छता अभियान से संबंधित प्रतियोगिताओं के माध्‍यम से युवाओं को इससे ज्‍यादा से ज्‍यादा जोड़ा जाना चाहिए.

यह प्रधानमंत्री के मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ का 35वां एपिसोड है. पीएम मोदी के ‘मन की बात’ कार्यक्रम को सुनने के लिए देशभर में स्थित भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) के केंद्रों में खास तैयारी की गई है. इसके अलावा उम्मीद की जा रही है कि पीएम मोदी गुरमीत राम रहीम के समर्थकों की ओर से मचाए गए उत्पात पर भी कुछ बोल सकते हैं.

ये भी पढ़ें: ‘मन की बात’ में महिला क्रिकेट टीम के लिए ये पांच बातें बोले पीएम मोदी

बताया जा रहा है कि पीएम मोदी खेल से जुड़े मुद्दे खासकर 2020 टोक्यो ओलिंपिक के बारे में अपने विचार साझा कर सकते हैं. सूत्रों के मुताबिक देश भर के साइ केंद्रों के वरिष्ठ अधिकारियों को कहा गया है कि वे खिलाड़ियों को इसके बारे में बताएं.

 

About the author

Related Posts

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.